AutoMobileBusinessEconomyLifestyleNatureUncategorized

सिर्फ वड़ा पाव बेच इस सख्श ने बना डाली करोड़ो की कंपनी!

Goli Vada Pav Success Story: आज हमारे देश भारत में Startups की एक अलग ही लहर चल रही हैं, अधिकतर लोग आज अपना खुद का Startup शुरू करना चाहते हैं और यही कारण भी हैं के आज हमारे देश की इकोनॉमी बहुत तेजी से आगे बढ़ती जा रही हैं।

आपने Startup की दुनिया में से कई सारी Success Story पढ़ी होगी कि कैसे कुछ Startup Founders ने अपनी मेहनत और विश्वास के कारण आज कई करोड़ो की कंपनी खड़ी कर दी हैं। इसलिए आज हम आपके लिए एक ऐसी ही ओर Success Story लेकर आए हैं, जिसमे एक स्टार्टअप फाउंडर ने वड़ा पाव की मदद से करोड़ो की कंपनी बनाई हैं।

यहां पर हम बात कर रहे हैं वेंकटेश अय्यर की जिन्होंने गोली वड़ा पाव नाम से अपना वड़ा पाव का बिजनेस शुरू किया था और आज इनका ये वड़ा पाव का बिजनेस करोड़ो का बन चुका हैं। आज के इस लेख में हम Goli Vada Pav Success Story पढ़ेंगे और जानेंगे कि वेंकटेस अय्यर ने कैसे वड़ा पाव से करोड़ो रुपए कमाए हैं।

goli vada pav success story
Goli Vada Pav Success Story

Goli Vada Pav Success Story की इस तरह हुई शुरुवात

वेंकटेश अय्यर का जन्म भारत में एक तमिल ब्राह्मण परिवार के घर में हुआ था। इनका बचपन कुछ खास नहीं था, क्योंकि इनका पढ़ाई लिखाई में ज्यादा मन मैं लगता था। इसी कारण इनका पूरा परिवार इन्हे हमेशा कहता था कि अगर पढ़ाई लिखाई नही करोगे तो तुम्हे कोई नौकरी नहीं देगा।

वेंकटेस के बचपन में सभी लोगो का ये लगता था कि वेंकटेश बड़ा होकर कुछ नही कर पायेगा। पर जब वेंकटेस बड़े होकर मुंबई में अपनी जॉब करने गए थे तो उन्हें मैकडोनाल्ड रेस्टोरेंट को देखते हुए आइडिया आया कि अगर ये विदेशी बर्गर भारत में इतना लोकप्रिय हो गया।

तो हमारा देसी वड़ा पाव क्यों लोकप्रिय नहीं हो सकता क्या? यही सोचते हुए उन्होंने वड़ा पाव का बिजनेस शुरू करने का मन बनाया और साल 2004 में Goli Vada Pav नाम से अपना वड़ा पाव का बिजनेस शुरू कर दिया। यही से वेंकटेश अय्यर की बिजनेस यात्रा शुरू हुई थी।

शुरुवात में करना पड़ा था कई मुसीबतों का सामना

वेंकटेस अय्यर ने जब साल 2004 में अपने Goli Vada Pav बिजनेस की शुरुवात करी तब उस समय उन्हें कई मुसीबतों का सामना करना पड़ा था। पर उन्होंने कभी भी हार नही मानी, और लगातार अपने बिजनेस पर काम करते रहे यही कारण हैं कि आज Goli Vada Pav कंपनी एक करोड़ो की कंपनी बन चुकी हैं।

इसके आलावा आपको बता दें कि वेंकटेस अय्यर भारतीय बिजनेस मैन नारायण मूर्ति से काफी ज्यादा प्रभावित हैं, और इसी कारण वह जरूरतमंद लोगों की भी मदद करने के लिए हमेशा आगे रहते हैं।

आज खुल चुके हैं 300 से ज्यादा Outlets

वेंकटेस अय्यर ने Goli Vada Pav कंपनी को 2004 में शुरू किया था और आज वहा से इनके लगभग पूरे देश भर में 300 से ज्यादा Outlets खुल चुके हैं। जिसके कारण आज ये कंपनी हर साल लगभग 50 करोड़ से ज्यादा का टर्नओवर बनाती हैं।

Goli Vada Pav Success Story Overview

Aspect Details
Founder Venkatesh Iyer
Founding Year 2003
Concept Corporatizing Mumbai’s street food, specifically Vadapav (Indian street snack)
Initial Investment Rs. One crore
Business Expansion 300+ stores across 100 cities and 20 states in India
Production Approach Vadas made in a centralized factory using high-end technology similar to McDonald’s
Brand Identity Named ‘Goli,’ reflecting Mumbai’s culture, slang, and street food essence
Menu Offerings Vadapavs, vada rolls, curry pavs with region-specific flavors and affordable pricing
Entrepreneurship Focus Encouraging small businessmen through franchise opportunities
Business Model Nominal investment for small businessmen; emphasis on sustained customer experience
Training Initiative Digital academy app for franchisees focusing on customer service and brand uniformity
Success Mantra ‘Plan, do and check’; emphasizes continuous improvement and business development
Recognition Case studies by prominent business institutions and awards, including Golden Spoon Award
Notable Achievements Book titled ‘My Journey with Vadapav’; part of curriculum in business schools
Speaking Engagements Delivering talks to various organizations and sharing the Goli Vadapav story

Goli Vada Pav Success Story Interview

हम आशा करते हैं कि इस आर्टिकल से आपको Goli Vada Pav Success Story की जानकारी मिल गई होगी, इसे अपने दोस्तो के साथ जरूर सांझा करें ताकि उन्हें भी Goli Vada Pav Success Story की जानकारी मिल सके। ऐसे ही ओर आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट taazatime.com के साथ जुड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *